Thursday, October 27, 2016

इक और सुनो

क्या माला क्या चादर, आँसू मेरी इबादत हैं - तू गिरने मैं सूखने नहीं देता।

No comments: