Wednesday, July 03, 2019

एक और सुनो

कमज़ोर होती आँखों में कुछ दुनिया की धूल है,
कुछ नैतिकता की चमक कुछ आँसू, कुछ भूल है
दिखाई दे न दे क्या आगे है मेरे,
मुझे मालूम है मगर पास क्या है मेरे, क्या दूर है

Thursday, May 23, 2019

सुनो

अपने ही मुझको भूल गए, क्या गिला किससे?
हमारे दिन भी अकेले हैं, और ख्याली किस्से||

Thursday, January 31, 2019

क्या लिखूं?


खुद को क्यूँ पहचाना लगता हूँ,
मर तो कब का चुका, क्यूँ चलता रहता हूँ?